Header Ads

.

चंदला विधानसभा से निकली केन नदी में आखिर किसके आशीर्वाद से चल रहा रेत का अवैध उत्खनन

चंदला/छतरपुर
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ चंदला विधानसभा से निकली केन नदी में आखिर किसके आशीर्वाद से चल रहा रेत का अवैध उत्खनन 
=================
 खनिज अधिकारी अमित मिश्रा एवं हिनौता थाना प्रभारी के संरक्षण मैं  चल रहा रेत का अवैध उत्खनन आखिर कब होगा बंद खनिज मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह हो रहे अपार रेत के उत्खनन पर आखिर क्यों बने अनजान

जिले का ठेका लेने वाली आनंदेश्वर फूड एग्रो प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ने इन रेत माफियाओं की दि लिखित शिकायत फिर भी रेत का उत्खनन जोरों पर
➖➖➖➖➖➖➖➖
जहां एक ओर शासन द्वारा सख्ती के बड़े बड़े वादे दिखाकर कोरोना की चेन तोड़ने के लिए प्रशासन दिन रात मेहनत कर रहा है। वहीं प्रशासन द्वारा कोरोना काल में भी अवैध रूप से संचालित रेत माफियाओं द्वारा केन नदी में रेत का खुलेआम अवैध उत्खनन किया जा रहा है और प्रशासन मूकदर्शक बना कोई भी बड़ी कार्यवाही करने से क्यों कतराते हैं जिले में बैठे वरिष्ठ अधिकारी । ग्वालियर से आए रेत माफिया देवेंद्र शर्मा,श्याम उपाध्याय उर्फ बाबा और इनके साथ कुछ लोकल के रेत माफिया रूद्र प्रताप पटेल, रामनरेश सिंह विलहरका सरपंच , फूल सिंह , संदीप तिवारी वीरा ,के ऊपर प्रशासनिक अधिकारियों का कोई भी असर दिखाई नहीं दे रहा है लोक जनशक्ति पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष लखन अनुरागी ने लगाए खनिज अधिकारी अमित मिश्रा पर गंभीर आरोप  

छतरपुर जिले का ठेका लेने वाली आनंदेश्वर फूड एग्रो कंपनी ने मार्च 2021 से रुपया नहीं भरा इसलिए रॉयल्टी बंद हो गई मगर रेत का अवैध उत्खनन आज भी चालू है लगभग केन नदी के सभी घाटों पर।

धड़ल्ले से चल रहा रेत का अवैध उत्खनन  इन रेत माफियाओ को किसी का  डर नही 
अवैध रूप से संचालित हनौता थाना अंर्तगत केन नदी की जलधारा रोक कर बखारी नंबर एक और दो की रेत निकाल कर उत्तर प्रदेश बिल्हरका खदान से  रेत माफियाओं द्वारा  किया जा रहा है अवैध उत्खनन जहां सैकड़ों ट्रक और ट्रैक्टर छतरपुर जिले की रेत उत्तर प्रदेश जा रही है सूत्रों से मिली जानकारी हिनौता थाना प्रभारी के संरक्षण में खुलेआम परिवहन हो रहा है 

बिना स्वीकृति के चल रहा रेत का अबैध करोबार 
 लवकुश् नगर अनुविभाग अंतर्गत राजस्व,खनिज और पुलिस प्रशासन के अधिकारी चुप्पी साधे हुए है।क्या कारण है की सभी विभागों के अधिकारी बालू माफियाओं के आगे बोने साबित हो रहे है। 
पर्यावरण का हो रहा विनाश, 
रेत माफियाओं द्धारा केन नदी के घाटों को मनमर्जी से काटा जा रहा है जिससे जीवन पर्यावरण सहित किसानों के खेतों का विनाश हो रहा है।
 अवेध उत्खनन एवं परिवहन को लेकर प्रशासन के प्रति रवैया को लेकर चर्चा का विषय बना हुआ है और छतरपुर प्रशासनन की कार्यशैली पर लग रहा प्रश्न चिन्ह 
      
 *महेंद्र सिंह ठाकुर* 
 *न्यूज़ 24 इंडिया स्टेट हेड छतरपुर मध्यप्रदेश*

No comments