Header Ads

.

*‘मौत का ‘मजंर देख भी नहीं ‘थम रहे लोगों के ‘पांव*

*‘मौत का ‘मजंर देख भी नहीं ‘थम रहे लोगों के ‘पांव*

अम्बेडकर नगर
जहांगीरगंज। समूचे देश प्रदेश के साथ ही जिले में भी कोरोना वायरस का भीषण प्रकोप है। देश और राज्य में प्रतिदिन हजारों की मौत हो रही है तो जिले में भी रोजाना कोरोना और बुखार से मौतें होने के मामले सामने आ रहे हैं। लेकिन मौत के भयानक मंजर को देख कर भी जिले के ग्रामीण अंचलों में लोगों के पांव थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। कस्बों बाजारों में उमड़ रही भीड़ कोरोना विस्फोट को दावत दे रही है।
जी हां! जिले के पूर्वांचल की बाजारों और गावों में लोग मौत के भयानक मंजरों को देख कर भी घोर लापरवाही बरत रहे हैं। सड़कों पर बिना मास्क और शारीरिक दूरी को धता बताते लोगों की भीड़ कोरोना संक्रमण को लेकर पूरी तरह लापरवाही बरत रही है। गांवों से लेकर कस्बों तक लोगों के पांव थम नहीं रहे हैं। जिले के पूर्वांचल के न्योरी, ढोलबजवा, रामनगर, आरोपुर, जहांगीरगंज, हुसैनपुर, नरियांव, माडरमऊ, देवरिया बाजार, पदुमपुर, राजेसुल्तानपुर, सिंघल पट्टी, गढ़वल, मदैनिया समेत अन्य ग्रामीण इलाकों में सुबह शाम भारी भीड़ उमड़ रही है। जहांगीरगंज कस्बे में जूते, रेडीमेड कपड़े, किराना दुकानदार कोरोना कफ्र्यू का जमकर उल्लंघन कर रहे हैं। यही हाल अन्य कस्बों का भी है। तय समय सीमा के बाद जहां किराने के दुकानदारों द्वारा दिन भर आधा शटर खोलकर बिक्री की जा रही है वहीं रेडीमेड कपड़े और जूतों के दुकानदार भी दिनभर आधा शटर गिराकर सामान बेच रहे हैं। पुलिस प्रशासन द्वारा दो दिन सख्ती बरते जाने के बाद भी न तो दुकानदार मान रहे और न ही खरीददार। बाजारों में उमड़ती भीड़ जिले के पूर्वांचल में जानलेवा कोरोना संक्रमण को बढ़ा सकती है। हालांकि जिम्मेदार लोग मास्क लगाकर निकल रहे हैं मगर लापरवाहों की तादाद अधिक है। यदि इनमें से कुछ लोग भी कोरोना संक्रमण की चपेट में आये तो सैकड़ों को संक्रमित कर सकते हैं। गांव गांव बुखार से तप रहे हैं इसके बावजूद लापरवाही चरम पर है।

No comments