Header Ads

.

*कैसे थमेगा कोरोना संक्रमण : मंडी में सब्जी नहीं, कोरोना बंटने जैसे हालात*

*कैसे थमेगा कोरोना  संक्रमण : मंडी में सब्जी नहीं, कोरोना बंटने जैसे हालात*

*सब्जी मंडी में उड़ रही कोविड प्रोटोकॉल की धज्जियां, लापरवाही इनती कि सब्जी मंडी कोरोना की मंडी साबित न हो जाए*


*कहीं मुश्किल में न ड़ाल दे सब्जी मंडी*

 अंबेडकरनगर
नवीन सब्जी मंडी  सिझौली अकबरपुर में कोविड मानकों की धज्जियां उड़ रही है। लापरवाही का आलम यह है कि सब्जी की यह मंडी कोरोना मंडी में कभी भी तब्दील हो सकती है। मीडिया टीम की जांच में यह बात सामने आई है। यहां न मानकों का पालन हो रहा है न सैनिटाइजेशन की प्रॉपर कोई व्यवस्था है। शनिवार को लोग सामान लेने के लिए एक दूसरे पर चढ़े जा रहे थें । यहां तक की कई लोग तो मास्क भी नहीं पहुंने हुए है।
 अंबेडकर नगर जनपद मुख्यालय पर स्थित नवीन सब्जी मंडी सिझोली में सब्जी लेकर आने वाले लोगों की न तो स्क्रीनिंग की जा रही है और न ही उनकी कोई जानकारी ली जा रही है। कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच यह लापरवाही भारी पड़ सकती है।
प्रशासन ने वीकेंड लॉकडाउन तो लगा दिया, लेकिन सब्जी मंडी में हालात पहले जैसे ही हैं। बीते वर्ष मंडी के प्रवेश द्वार पर सैनेटाइजर और मास्क ना लगाने वालों को प्रवेश नहीं दिया जा रहा था और मंडी में जाने वाले हर व्यक्ति की जानकारी रखी जा रही थी लेकिन अब ऐसा नहीं किया जा रहा। रोजाना यहां भारी भीड़ उमड़ रही है। इससे संक्रमण फैलने का खतरा है। जबकि अभी कुछ दिनों पहले ही मंडी के कर्मचारी  राम सजीवन की मृत्यु कोरोना के संक्रमण से हुई  जिसको  लेकर मंडी के  कर्मचारी भी चिंतित नजर आने लगे हैं। मंडी के कर्मचारियों को ये डर है कि वो भी कोरोना से संक्रमित न हो जाए। नवीन सब्जी मंडी सिझौली में
एक बार में हजारों लोगों पर संक्रमित होने का खतरा बना हुआ है।
इस बार हालात पिछले साल से भी खराब हैं। ऐसे में प्रशासन ने कड़े कदम नहीं उठाए तो परिणाम भयावह हो सकते हैं।

No comments