Header Ads

.

*जिले में ताउते तूफान का दिखा असर कल देर शाम से ही रुक रुक कर बारिश जारी*

अंबेडकर नगर
*जिले में ताउते तूफान का दिखा असर कल देर शाम से ही रुक रुक कर बारिश जारी*
अंबेडकरनगर। समुद्र के तटीय क्षेत्र में स्थित प्रांतों में आए ताउते तूफान का हल्का असर बुधवार को जिले में भी रहा। दोपहर बाद जिले के विभिन्न क्षेत्रों में कहीं तेज, तो कहीं हल्की बारिश हुई। इससे भीषण गर्मी से जूझ रहे लोगों ने राहत की सांस ली। सुहावने हुए मौसम का लोगों ने आनंद उठाया। उधर, बारिश ने एक तरफ जहां मेंथा व गन्ना किसानों के चेहरे पर चमक ला दी, वहीं सब्जी किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीरें खिंच गईं। सब्जी किसानों का कहना है कि यदि तेज बारिश होती है और खेत में पानी भर जाता है, तो इससे सब्जी को नुकसान हो सकता है।
ताउते तूफान का हल्का असर बुधवार को जिले में भी देखने को मिला। वैसे तो सुबह से ही काले बादल उमड़-घुमड़ रहे थे।मंगलवार से ही जिले में सुबह से बुधवार देर शाम तक रुक-रुककर रिमझिम बारिश होती रही। इससे तापमान में गिरावट आने के साथ मौसम सुहाना हो गया। दोपहर में तेज बारिश के बाद शाम को दोबारा बादल छाने के साथ हल्की बारिश हुई। अधिकतम तापमान 30 व न्यूनतम 24 डिग्री रिकार्ड किया गया।जिले में सोमवार की रात में आसमान में बादल छाए रहने के साथ ठंडी हवाएं चलती रहीं। मंगलवार को सुबह दस बजे से रुक-रुककर हल्की बारिश का दौर शुरू हो गया, जो बुधवार देर शाम तक जारी रहा। सुबह हल्की बारिश होने से पिछले कई दिनों से भीषण गर्मी से परेशान लोगों को काफी राहत मिली। दोपहर 12 बजे के बाद कई बार बहुत तेज बारिश हुई। फैज़ाबाद मार्ग, तहसील तिराहा, अन्नावां बाजार,व कटेहरी सहित विभिन्न क्षेत्रों में राहगीर व दोपहिया वाहन चालक आनंद लेते रहे। शाम पांच बजे बाद आसमान में दोबारा घने बादल छाने के साथ रुक-रुक कर हल्की बारिश होती रही। यह देख लोगों को आशंका हुई कि कहीं तूफान यहां भी न आ जाए। दोपहर बाद अचानक बारिश होने लगी। कहीं तेज, तो कहीं हल्की बारिश हुई। तेज हवा न चलने व मूसलाधार बारिश न होने से आशंका में डूबे लोगों ने राहत की सांस ली। इस बीच हवा के साथ हुई बारिश ने भीषण गर्मी से जूझ रहे लोगों को काफी राहत दी। हालांकि लॉकडाउन के चलते लोग घर से बाहर निकलकर बदले मौसम के मिजाज का आनंद नहीं उठा सके।उधर, मौसम के बदले मिजाज ने मेंथा व गन्ना किसानों के चेहरे पर जहां चमक ला दी, वहीं सब्जी किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीरें उत्पन्न हो गईं।सब्जी किसानों का कहना है कि यदि तेज हवा के साथ मूसलाधार बारिश होती है और खेत में पानी भर जाता है, तो इससे सब्जी को नुकसान हो सकता है। कहा कि मौजूदा समय में सब्जियों को अधिक पानी की जरूरत नहीं है। हालांकि गन्ना किसानों के लिए बारिश गन्ने के लिए अमृत समान है। मौजूदा समय में मेंथा व गन्ने की सिंचाई की सख्त जरूरत है। ऐसे में बारिश ने किसानों को राहत प्रदान की है।मंगलवार को सुबह से हल्की बारिश शुरू होने के बाद से ही बिजली भी शाम तक झटके खाते रहे। कटेहरी,प्रतापपुरचमुर्खा,जरुखा,पिलखावा,अशागढ़ सहित अन्य सबस्टेशन से जुड़े मुहल्लों में सुबह दस बजे शाम पांच बजे तक बिजली नहीं आई। इससे सरकारी व प्राइवेट कार्यालयों में  भी घंटों जेनरेटर चलते रहे।

No comments