Header Ads

.

*प्रशासन की चिंता, लोगों की लापरवाही दे रही संक्रमण को न्योता*

*हर स्तर पर लापरवाही, बढ़ रहा कोरोना संक्रमण*

*प्रशासन की चिंता, लोगों की लापरवाही दे रही संक्रमण को न्योता*

 अंबेडकर नगर
कोरोना संक्रमण एक बार फिर तेजी से फैल रहा है। बढ़ते कोरोना संक्रमण के खतरे को लेकर जिला प्रशासन कुछ हद तक अलर्ट है, लेकिन लोग कोरोना संक्रमण लेकर लापरवाही बरत रहे हैं।
कोरोना महामारी से जंग लड़ने में हर स्तर पर लापरवाही देखने को मिल रही है। स्वास्थ्य विभाग, प्रशासन और पुलिस कोरोना का स्पेशल बजट, मैनपावर सहित अन्य सभी सुविधाएं मिलने के बावजूद भी लापरवाही बरत रहे हैं। वहीं आमजन कोरोना से भयमुक्त हो बाजारों में बिना मास्क के बेखौफ होकर घूम रहे हैं। सरकार द्वारा कोरोना से निपटने के लिए हाल ही में जिला नागरिक अस्पताल को वेंटीलेटर, ऑक्सीजन बेड, बजट के अलावा नए चिकित्सक आदि की अतिरिक्त सुविधाएं दी हैं। वर्क इसमें भी कई व्यवस्था है जनपद में नदारद है। इन सबके बावजूद जिले में कोरोना संक्रमितों का आकंड़ा रफ्तार पकड़े हुए है   इसमें स्वास्थ्य विभाग की जितनी ढिलाई कही जा सकती है, उतनी ही आमजन की लापरवाही भी जिम्मेदार है।
विभाग के साथ-साथ आमजन की लापरवाही भी कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ाने में सहायक सिद्ध हो रही है। बाजारों में लोगों का बिना मास्क के घूमना आम बात हो गई है। लॉक डाउन के बाद भी बस स्टैंड पर प्राइवेट बस संचालकों द्वारा निर्धारित संख्या से अधिक सवारियां बैठाई जाती हैं और उनकी कोई स्क्रीनिंग आदि भी नहीं की जा रही। अनेक दुकानों में दुकानदार या संचालक भी बिना मास्क के ही दिखाई देते हैं।
नहीं हो रहा सामाजिक दूरी का पालन
शुरुआती दौर में जनता में कोरोना का काफी भय था, जिस कारण सभी लोग मास्क लगाने और सामाजिक दूरी का पालन कर रहे थे। अब ऐसा नहीं है। लोग लापरवाही बरतने लगे हैं, जिससे संक्रमण की चैन बढ़ती जा रही है। विभाग संक्रमण रोकने के लिए पूरे प्रयास कर रहा है।
शहरवासियों और ग्राम वासियों को स्वयं भी कोरोना महामारी की गंभीरता को समझना होगा और उन्हें स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाइंस के अनुसार मास्क, सैनिटाइजर, साबुन से हाथ धोने जैसे नियमों का पालन करना चाहिए।
कोरोना के खिलाफ लड़ाई में दिन-रात सड़कों पर घूम-घूम कर ड्यूटी देने वाले पुलिसकर्मियों और उनके परिजनों की फिक्र किसी को नहीं है। मरीज हों या आम जनता सभी को सड़क पर समान भाव से सुरक्षिरत रहने के टिप्स दे रहे पुलिस वाले दूसरों को संक्रमण से बचाने के लिए दिन भर जान से खेल रहे हैं। फील्ड में ड्यूटी के दौरान न तो इनके पास पर्याप्त मास्क और सैनिटाइजर रहते हैं और न ही इनके घर, कॉलोनी, थाने चौकी को ही सैनिटाइज किया जा रहा है। इस कारण न सिर्फ इनमें बल्कि इनके परिजनों व अन्य स्टाफ कर्मियों में भी संक्रमण का खतरा बना हुआ है। अगर ऐसा हुआ तो कोरोना के खिलाफ लड़ाई और लॉकडाउन पर इसका सीधा असर  पड़ता नजर आ रहा है।
कोरोना वायरस को लेकर जिला भी 10 मई तक लॉकडाउन पर है। पुलिसकर्मी थानों से लेकर चौकी व सड़कों पर सुरक्षा व्यवस्था की कमान संभाले हैं।इससे 24 घंटे ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों को संक्रमण का डर सता रहा है। नाम न छापने की शर्त पर कुछ पुलिसकर्मियों ने बताया कि वह कई तरह की अव्यवस्थाओं से भी जूझ रहे हैं लेकिन उनकी ही कोई सुनने वाला नहीं है।
शहजादपुर कस्बा चौकी  इंचार्ज गजेंद्र विक्रम सिंह ने कहा संकट के इस दौर में जनता से उम्मीद है कि लोग घरों में रहें, मास्क पहनें यदि फिर भी लोग गाइडलाइन की पालन नहीं करते हैं तो पुलिस को मजबूरन उनके खिलाफ कार्रवाई करनी पड़ेगी, अब तक गाइडलाइन को लेकर काफी नरम रुख था, लेकिन संक्रमण में कोई कमी नहीं आने के कारण प्रशासन को सख्त कदम उठाने होंगे।समय के बाद या गाइडलाइन के खिलाफ दुकान खोली जाती है तो दुकानों को सीज करने की कार्रवाई भी की जाएगी। वहीं बिना वजह घूमने वाले या गाइडलाइन की अवहेलना करने वाले लोगों के खिलाफ चालान भी किए जाएंगे।

No comments