Header Ads

.

*मिर्जापुर अस्थाई गौशाला में दयनीय होती गोवंशो की हालत, हो रही मौत आखिर जिम्मेदार कौन?*

मिर्जापुर अस्थाई गौशाला में दयनीय होती गोवंशो की हालत, हो रही मौत आखिर जिम्मेदार कौन?*

 अंबेडकर नगर
जनपद में गौशाला की जानवरों की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। गौशाला में खाना पानी की कमी है। इस वजह से एक महीने मे गोवंशों की बीमारी के कारण हत्या हो गई तो वहीं कुछ अपना पेट भरने के लिए फसलों को चारा बनाते हैं। गौशाला की कंडीशन भी ठीक नहीं है। जिला प्रशासन को इस समस्या से अवगत भी कराया गया लेकिन उनकी तरफ से मदद के कोई आसार गोवंशों को नहीं मिले। मिर्जापुर अस्थाई गौ शाला में गायों की ठीक ढंग से देखभाल नहीं होने सेे कई गाय मरणासन्न स्थिति में पहुंच गई हैं ।गायों के बीमार होने पर नहीं उनका इलाज कराते हैं। अभी गौ शाला में कई गाय ऐसी हैं जिनके घावों में कीड़े पड़ रहे हैं लेकिन गौशाला प्रबंधन उनका इलाज नहीं करा रहा है। जिससे गौ शाला में गायों की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है।  गोशाला यहां रह रही गायों के लिए कब्रगाह बनती जा रही है। यहां गायों के चारे के लिए यदि कोई दान दे देता है तो उन्हें खाने के लिए चारा नसीब हो जाता है, नहीं तो गायों को सूखे भूसे से काम चलाना पड़ता है। इसके चलते गायें काफी कमजोर हो गई हैं और कुपोषण का शिकार होकर दम तोड़ रही हैं। यहां तैनात डॉक्टरों का कहना है कि चारा तो दूर, उनके पास इलाज के लिए दवाएं तक नही हैं। बार-बार लिखकर देने के बावजूद प्रशासन इस ओर ध्यान नहीं दे रहा। इतना ही नहीं गोशाला के लिए बनाई गई कमेटी का भी कोई सदस्य कभी आकर नहीं देखता कि यहां किस चीज की जरूरत है।
*रिपोर्ट- दिलीप कुमार भास्कर जिलासंवादाता न्यूज 24 इन्डिया अम्बेडकरनगर उ.प्र.*

 अंबेडकर नगर
जनपद में गौशाला की जानवरों की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। गौशाला में खाना पानी की कमी है। इस वजह से एक महीने मे गोवंशों की बीमारी के कारण हत्या हो गई तो वहीं कुछ अपना पेट भरने के लिए फसलों को चारा बनाते हैं। गौशाला की कंडीशन भी ठीक नहीं है। जिला प्रशासन को इस समस्या से अवगत भी कराया गया लेकिन उनकी तरफ से मदद के कोई आसार गोवंशों को नहीं मिले। मिर्जापुर अस्थाई गौ शाला में गायों की ठीक ढंग से देखभाल नहीं होने सेे कई गाय मरणासन्न स्थिति में पहुंच गई हैं ।गायों के बीमार होने पर नहीं उनका इलाज कराते हैं। अभी गौ शाला में कई गाय ऐसी हैं जिनके घावों में कीड़े पड़ रहे हैं लेकिन गौशाला प्रबंधन उनका इलाज नहीं करा रहा है। जिससे गौ शाला में गायों की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है।  गोशाला यहां रह रही गायों के लिए कब्रगाह बनती जा रही है। यहां गायों के चारे के लिए यदि कोई दान दे देता है तो उन्हें खाने के लिए चारा नसीब हो जाता है, नहीं तो गायों को सूखे भूसे से काम चलाना पड़ता है। इसके चलते गायें काफी कमजोर हो गई हैं और कुपोषण का शिकार होकर दम तोड़ रही हैं। यहां तैनात डॉक्टरों का कहना है कि चारा तो दूर, उनके पास इलाज के लिए दवाएं तक नही हैं। बार-बार लिखकर देने के बावजूद प्रशासन इस ओर ध्यान नहीं दे रहा। इतना ही नहीं गोशाला के लिए बनाई गई कमेटी का भी कोई सदस्य कभी आकर नहीं देखता कि यहां किस चीज की जरूरत है।
*रिपोर्ट- दिलीप कुमार भास्कर जिलासंवादाता न्यूज 24 इन्डिया अम्बेडकरनगर उ.प्र.*

No comments