Header Ads

.

*रेत माफियाओं के सामने बौना साबित हो रहा प्रशासन*

बड़ी खबर

*रेत माफियाओं के सामने  बौना साबित  हो रहा प्रशासन*

 *रेत पर रोक के बावजूद वंशिया थाने से हो रही लवकुशनगर तक अवैध निकासी, बाल-बाल बचा आरक्षक*
 *रेत पर चंदला थाना प्रभारी सख्त होने के बावजूद भी हो रहे बदनाम* 

 न्यूज 24 इंडिया ब्यूरो चीफ महेंद्र सिंह

जिला छतरपुर मध्य प्रदेश
लवकुश नगर अनु विभाग अंतर्गत रेत माफियाओं का दबदबा अभी तक गोयरा थाना अंतर्गत रामपुर खदान में माना जाता रहा। जिसमें जिले के समस्त शातिर कुख्यात अपराधियों का जमावड़ा लगता रहा मगर हाल ही में अब माफियाओं की दिशा इस समय नऐ प्रभारी आते ही बंसिया थाना की ओर हो गई है। इसी इलाके के अंतर्गत अवैध रूप से पूरे अनु विभाग में रेत का परिवहन किया जा रहा है। जिसमें बीते रोज कल रात लगभग 11:00 बजे चंदला थाना अंतर्गत नगर चंदला में संतोषी माता मंदिर की पहड़िया के पास रात्रि कालीन ड्यूटी में आरक्षकों ने तीन रेत से जा रहे ट्रैक्टरों को देखा जिसमें एक का पीछा करते दो आरक्षक निकल गए और दूसरे नंबर के ट्रैक्टर को जैसे ही आरक्षक (405)दशरथ प्रजापति ने रुकवाया आनन-फानन में ट्राली का कंप्रेसर ड्राइवर ने उठा दिया  और ट्रॉली पलट गई  जिससे आरक्षक दशरथ के ही पैर में ट्रॉली आई जिस वजह आरक्षक का बुरी तरह से पैर जख्मी हो गया। जैसे ही लगभग 20 मिनट बाद अन्य आरक्षक मौके पर आए तत्काल चपेट में आए आरक्षक दशरथ को ट्रॉली से निकाला और एंबुलेंस की सहायता से प्राथमिक उपचार के उपरांत जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। इसके पश्चात बेहतर इलाज हेतु आरक्षक को जबलपुर के लिए रेफर किया गया। उक्त मामले में पुलिस ने आरक्षक दशरथ की फरियाद पर दो ड्राइवरों पर धारा 307, 353 379, 34 आईपीसी,खनिज अधिनियम सहित विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया फिलहाल आरोपी पुलिस गिरफ्त से बाहर है।

 गौरतलब यह है कि रेत माफियाओं का पहले आम जनता फिर पत्रकारों पर अब प्रशासनिक गठजोड़ धीरे-धीरे कदमों के साथ प्रशासन पर ही महंगा पड़ता  दिख रहा है महत्वपूर्ण यह भी है कि अगर समय रहते प्रशासन इन रेत माफियाओं के खिलाफ चैतन्य अवस्था में नहीं आता तो आने वाले समय में निश्चित रूप से कोई बड़ी अनहोनी का अंदेशा स्वभाविक रहेगा क्योंकि समाज के साथ में तो अनेकों अनहोनी हो चुकी हैं। रेत के खेल में खदानों पर अनेक हत्याओं के मामले अज्ञात में दर्ज हुए मगर आज तक किसी भी मामले का खुलासा नहीं हो सका इसलिए रेत माफियाओं का हौसला बुलंद दिखाई दे रहा है
 इनका कहना है......
आरोपियों के पकड़ने का प्रयास जारी है बताया जा रहा है कि ट्रैक्टरों के मालिक भी आगे पीछे ट्रैक्टर के चल रहे थे और  ट्रैक्टरों का बीमा भी नहीं है
वीरेंद्र बहादुर सिंह थाना प्रभारी चंदला

No comments