Header Ads

.

Unlock हुए ताजनगरी के होटल, लेकिन अभी होगा सिर्फ मेंटीनेंस और ट्रेनिंग प्रोग्राम

ढाई माह से अधिक की बंदी के बाद अनलाॅक-1 में सोमवार को ताजनगरी स्थित होटलों व गेस्ट हाउस को केंद व राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार खोला गया। सुबह से खोले गए होटलों में सिर्फ साफ-सफाई, मेंटीनेंस और कोविड-19 की गाइडलाइन के पालन को कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। हांलाकि ताजनगरी में होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन के सदस्य होटल, टूरिस्ट वेलफेयर चैंबर से जुड़े एंपोरियम बंद रहे। एप्रूव्ड टूरिस्ट गाइड एसोसिएशन का इन्हें समर्थन प्राप्त है। 

कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए संस्कृति मंत्रालय के आदेश पर देशभर के स्मारक 17 मार्च काे बंद कर दिए थे। इसके साथ ही ताजनगरी के होटलों का खाली होने व बंद होने का सिलसिला शुरू हो गया था। 22 मार्च को जनता कर्फ्यू और 23 मार्च को आगरा में लॉक डाउन के साथ ही आगरा के सभी होटल बंद हो गए। ढाई माह से अधिक समय से हाेटल व गेस्ट हाउस बंद हैं। प्रशासन ने रविवार को होटल व गेस्ट हाउस के संचालन का आदेश जारी कर दिया था। हालांकि, शहर के करीब 60 फीसद होटल व गेस्ट हाउस बंद रहेंगे। उन्होंने अभी बंद रखने का ही निर्णय लिया है। जो होटल खुलेे हैं उनकी योजना दो से तीन दिन में साफ-सफाई कराने की है। सितारा होटल अभी कोविड-19 की गाइडलाइन के पालन को जरूरी व्यवस्थाएं व स्टाफ का प्रशिक्षण कराने की योजना पर चार से पांच दिन काम करेंगे।

अभी नहीं आएंगे पर्यटक

ताजनगरी के होटल व गेस्ट हाउस भले ही सोमवार से खोल दिए गए लेकिन पर्यटकों का अभी कुछ पता नहीं है। अंतरराष्ट्रीय उड़ानें बंद हैं और श्रमिक ट्रेनों को छोड़कर पर्यटकों के लिए अनुकूल मानी जाने वाली गतिमान, शताब्दी और ताज एक्सप्रेस अभी बंद ही हैं। दिल्ली का बॉर्डर सील है। ताजमहल भी अभी बंद ही रहेगा, इस स्थिति में आगरा में पर्यटकों का आना पर्यटन उद्यमी भी संभव नहीं मान रहे हैं।

होम डिलीवरी ही कर सकेंगे रेस्टोरेंट

कैंटोनमेंट व बफर जोन को छोड़कर अन्य क्षेत्रों में स्थित रेस्टोरेंट को अभी होम डिलीवरी की ही अनुमति रहेगी। वो किसी को रेस्टोरेंट में बैठाकर सर्विस नहीं देंगे।

होटल खोलने को यह हैं शर्तें

- कंटेनमेंट व बफर जोन में होटल, गेस्ट हाउस व रेस्टोरेंट नहीं खुल सकेंगे।

- खाद्य पदार्थ व पेय पदार्थ की केवल रूम सर्विस होगी।

- केंद्र व राज्य सरकार की गाइडलाइन के अनुसार शारीरिक दूरी समेत अन्य दिशा-निर्देशों का पालन करना होगा।

आगरा में पर्यटन व हैंडीक्राफ्ट कारोबार की स्थिति

- आगरा में पर्यटन का करीब पांच हजार करोड़ रुपये का वार्षिक कारोबार है।

- शहर में डेढ़ दर्जन के करीब सितारा होटल, 450 के करीब बजट क्लास होटल, 100 से अधिक पेइंग गेस्ट हाउस और 150 से अधिक रेस्टोरेंट हैं।

- पर्यटन कारोबार पर प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से करीब पांच लाख लोग आश्रित हैं।

- आगरा में करीब एक हजार गाइड हैं।

- हैंडीक्राफ्ट कारोबार निर्यात व घरेलू बिक्री को मिलाकर करीब 2500 करोड़ रुपये का है।

- शहर में छोटे-बडे़ 150 एंपोरियम्स हैंडीक्राफ्ट के हैं।

- हैंडीक्राफ्ट कारोबार में शिल्पियों व एंपाेरियम में काम करने वालों समेत करीब 70 हजार लोग जुड़े हुए हैं।

हम प्रधानमंत्री के साथ हैं

हाेटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश चौहान ने बताया कि हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हैं। सरकार ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को लॉक डाउन किया था। अनलॉक-1 में कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ी है। एसोसिएशन के सभी सदस्य होटल अभी बंद रहेंगे। हम होटलों को खोलकर कोरोना के संक्रमण को बढ़ाना नहीं चाहते हैं। यही देशहित में है। वैसे भी पर्यटक अमन और शांति के माहौल में आना पसंद करते हैं।

होटल स्टाफ की ट्रेनिंग व व्यवस्था कराना प्राथमिकता

टूरिज्म गिल्ड ऑफ आगरा के अध्यक्ष हरी सुकुमार ने बताया कि हम एक साथ होटल खोलने की बजाय चरणों में होटल खोलेंगे। 12 जून तक एसोसिएशन के होटल खुल जाएंगे। कोविड-19 को लेकर जारी गाइडलाइन के अनुसार होटल स्टाफ का प्रशिक्षण, होटल में व्यवस्थाएं आदि की जानी हैं। तत्काल होटल खोलने का कोई लाभ नहीं है। दिल्ली का बॉर्डर बंद होने से पर्यटक तो आ नहीं सकते। होम डिलीवीरी को रेस्टोरेंट चालू कर सकते हैं।

अभी नहीं आएंगे पर्यटक, मेंटीनेंस कराएंगे

होटल एंड रेस्टोरेंट ऑनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष रमेश वाधवा ने बताया कि होटलों को खोलने का निर्णय अच्छा है। अभी कोई पर्यटक तो होटलों में आने से रहा। एसोसिएशन के सदस्य ढाई माह से अधिक समय से बंद होटलों को खोलकर सफाई आदि कराएंगे। मई-जून में मेंटीनेंस का काम कराया जाता है। हम इस अवधि में होटलों में मेंटीनेंस का काम कराएंगे। इसके साथ ही कोविड-19 को केंद्र व राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन कराएंगे।

बिना ताजमहल खुले होटल खोलने का औचित्य नहीं

इंडियन एसोसिएशन ऑफ टूर ऑपरेटर्स के नोर्दर्न रीजन के चेयरमैन सुनील गुप्ता ने कहा कि ताजमहल को खोले बगैर होटलों को खोलने का कोई औचित्य नहीं है। जब पर्यटक ही नहीं आएंगे तो होटल किनके सहारे चलेंगे। अभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें बंद होने, दिल्ली का बॉर्डर बंद होने से पर्यटक आएंगे नहीं। स्थानीय लोग होटलों में जाकर क्या करेंगे। यह होटल इंडस्ट्री के लिए अत्यंत संकट का समय है। सरकार ने ट्रेड की कोई मदद नहीं की। 

*रिपोर्ट | भोवन सिंह ब्यूरो चीफ आगरा उ0प्र0*

( *NEWS 24 INDIA न्यूज चैनल*)

No comments