Header Ads

.

CTRI ने आगरा में कोरोना वैक्सीन के लिए मर्ज ट्रायल को मंजूरी दी


आगरा में कोरोना वैक्सीन के लिए मर्ज ट्रायल होगा, यह छह महीने तक चलेगा, इसके लिए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल स्टेटिक्स की क्लीनिकल ट्रायल्स एजेंसी सीटीआरआई ने अनुमति दे दी है। अमेरिका में टेक्सास स्थित राइस यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर ट्रायल किया जाएगा।

दुनिया भर में कोरोना वैक्सीन पर काम चल रहा है, अब जो वैक्सीन तैयार हो चुकी हैं उनके मनुष्यों पर ट्रायल शुरू किए जा रहे हैं। ऐसे में दयालबाग शिक्षण संस्थान में फेकल्टी ऑफ इंटीग्रेटेड मेडीसिन के डॉ. सिद्धार्थ अग्रवाल अमेरिका में टेक्सास स्थित राइस यूनिवर्सिटी की डॉ. दीप्ति यादव, पैथोलॉजिस्ट डॉ. सपना अग्रवाल और सिद्धार्थ हॉस्पिटल के चीफ डॉ. पीएन अग्रवाल की टीम कोरोना वैक्सीन के मर्ज ट्रायल पर काम करेगी।
कोरोना के 100 मरीजों का हो चुका है इलाज
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार डॉ. सिद्धार्थ अग्रवाल के सिद्धार्थ हॉस्पिटल में 100 मरीजों का इलाज किया गया। मरीजों पर किए गए परीक्षण और प्रयोग पर शोध पत्र भी तैयार किया गया, जिसे अमेरिका के यूनिवर्सिटी आफ येल में प्रकाशन के लिए भेजा गया। शोध पत्र तैयार करने वाले टीम के प्रमुख डॉ. सिद्धार्थ अग्रवाल के साथ इटली की प्रोफेसर डॉ. पाओला एम बुगनोली सहयोगी रहीं।

छह महीने चलेगा ट्रायल
पिछले ढाई महीने में हाई रिस्क कॉन्टेक्स ऑफ कोविड-19 के प्रमाणित 100 मरीजों में नए पीएच बेस्ड इंटीग्रेटेड सार्स कोव 2 इम्युनिटी इन ह्यूमन सब्जेक्ट पर जो उपचार और परीक्षण किया गया, इसे आधार मानते हुए पिस्कोव ट्रायल ( पीएच बेस्ड इंटीग्रेटेड सार्स कोव-2 ) के लिए सिद्धार्थ हॉस्पिटल में छह माह में 23 मर्ज ट्रायल (ह्यूमन) होगा।

*रिपोर्ट | भोवन सिंह ब्यूरो चीफ आगरा*

( *NEWS 24 INDIA न्यूज चैनल*)

No comments