Header Ads

.

आगरा में विजिलेंस थाना ने शुक्रवार से विधिवत रूप से कार्य करना शुरू कर दिया।

शासन ने सतर्कता अधिष्ठान आगरा सेक्टर कार्यालय को जनवरी में थाना घोषित किया था। इसके बाद से थाना खोलने की प्रक्रिया जारी थी। आगरा सेक्टर में आठ जिले आते हैं। इनमें आगरा के अलावा मथुरा, फिरोजाबाद, मैनपुरी, अलीगढ़, एटा, हाथरस और कासगंज हैं। इन सभी जिलों की भ्रष्टाचार से संबंधित जांच विजिलेंस करती है। 
शासन का आदेश मिलने पर मुकदमे दर्ज होते हैं। मगर, थाना न होने की वजह से संबंधित जिलों के एसएसपी को पत्र भेजा जाता है। विजिलेंस थाना स्थापित होने के बाद अब विवेचक को संबंधित जिले जाकर मुकदमा दर्ज कराने की कवायद नहीं करनी पड़ेगी। अपने कार्यालय में ही बनाए गए थाने में मुकदमा दर्ज हो जाएगा। यहीं से टीम जांच के लिए भेजी जाएगी।  
आगरा में विजिलेंस थाना ने शुक्रवार से विधिवत रूप से कार्य करना शुरू कर दिया। अब थाना में आगरा और अलीगढ़ मंडल के आठ जिलों के मुकदमे शासन के आदेश पर सीधे दर्ज किए जा सकेंगे। भ्रष्टाचार की शिकायत पर सुनवाई के लिए रिश्वत विरोधी हेल्पलाइन नंबर भी शुरू किया गया है। इस पर लोग सीधे कॉल कर सकते हैं। 

थाना स्थापित करने के साथ ही उत्तर प्रदेश सतर्कता अधिष्ठान कार्यालय लखनऊ की ओर से भ्रष्टाचारियों पर अंकुश लगाने के लिए हेल्पलाइन नंबर का भी शुभारंभ किया गया है। इसे रिश्वत विरोधी हेल्पलाइन का नाम दिया गया है। 

किसी लोक सेवक के रिश्वत मांगने पर शिकायतकर्ता अब हेल्पलाइन नंबर 9454401866 पर सीधे कॉल कर सकता है। शिकायतों का तत्काल परीक्षण किया जाएगा। शासन को रिपोर्ट भेजी जाएगी। हेल्पलाइन नंबर पर सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक  शिकायत की जा सकेगी।  

एसपी विजिलेंस रवि शंकर निम ने बताया कि भ्रष्टाचार से संबंधित मुकदमे दर्ज कराने के लिए विजिलेंस के इंस्पेक्टरों को आठ जिलों में नहीं जाना पड़ेगा। अब सेक्टर आगरा परिक्षेत्र में ही थाना स्थापित किया गया है। यहां मुकदमा दर्ज किया जा सकेगा। 

इस थाने में पर्याप्त संख्या में पुलिसकर्मी रहेंगे। आठ जिलों के हिसाब से संख्या रखी जाएगी। अभी कार्यालय में ही थाना संचालित होगा। बाद में थाना बनाने के लिए जमीन उपलब्ध कराने के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा जाएगा। 

*रिपोर्ट | भोवन सिंह ब्यूरो चीफ आगरा उ0प्र0*
( *NEWS 24 INDIA न्यूज चैनल*)
Mob:-6395784595

No comments