Header Ads

.

*एसपी छतरपुर के सख्त निर्देशों के बावजूद भी नहीं रुक रहा रामपुर घाट से रेत का अवैध उत्खनन*

बड़ी खबर....

*एसपी छतरपुर के सख्त निर्देशों के बावजूद भी नहीं रुक रहा रामपुर घाट से रेत का अवैध उत्खनन*
न्यूज 24 इंडिया ब्यूरो चीफ महेंद्र सिंह

जिला छतरपुर मध्य प्रदेश
गोयरा थाना अंतर
एसपी कुमार सौरभ के सख्त निर्देशों के बावजूद भी अवैध उत्खनन पर नहीं कसी जा रही लगाम।

शाम होते ही खाली ट्रक निकलते हैं लवकुशनगर क्षेत्र से रामपुर घाट की ओर जहां गोयरा थाना से  लवकुश नगर थाना तक देता हैं रेत माफिया व सत्ताधारी नेताओं को अवैध उत्खनन की सह।

मध्यरात्रि के बाद अवैध रूप से रेत से भरे ट्रक त्रिपाल लगाकर निकलते हैं जो रामपुर से होते चंदला थाना पार कर लवकुश नगर में करते हैं डंप।

सूत्रों की माने तो इन ट्रकों का मालिक और कोई नहीं रूद्र प्रताप पटेल, दीपक शिवहरे,  महोबा के डमफर व कुछ मुड़ेरी के भी बताए जाते हैं।

आखिर जिला प्रशासन क्यों नहीं कर पा रहा इन रेत माफियाओं पर कार्यवाही खनिज विभाग क्यों आंख बंद किए सो रहा है कुंभकरण की नींद ।
क्या सत्ता पक्ष के होने पर भाजपा सरकार देती है रेत उत्खनन की खुली छूट?

अनुविभाग में नवागत एसडीओपी पीएल प्रजापति के आने से भी नहीं लग पा रहा रेत माफियाओं पर कोई अंकुश

गोयरा थाना से लेकर पटा चौकी तक चार थानों से गुजरते हुए महोबा जाती है रेत  चारों थाना प्रभारियों द्वारा एसपी छतरपुर के आदेशों को ताक में रखकर कराया जा रहा अवैध उत्खनन और परिवहन।
रुद्र प्रताप के जैसे रेत माफियाओं से क्या डरता है जिला प्रशासन????

बड़ा सवाल???
क्या पत्रकारों पर झूठे मामले दर्ज करवाकर रूद्र प्रताप पटेल पत्रकारों की आवाज को बंद कर सकता है????

क्या रूद्र प्रताप पटेल सत्ताधारी नेताओं के साथ मिलकर किसी पर भी दबाव बना सकता है????

समाज सेवा की आड़ में रेत का अवैध व्यापार करने वाले और अपने आप को समाजसेवी कहने वाले अचानक कुछ सालों में इतने बड़े संपत्ति धारक क्यों हो गए क्या इसकी जांच सरकार नहीं करा सकती क्या सत्ता पक्ष का सहयोग इन अधिकारियों के पैरों में बेड़ियां डाले हुए हैं?????

No comments