Header Ads

.

अस्थमा और रीढ़ की हड्डी के लिए लाभप्रद है सुप्त वज्रासन-योगाचार्य महेश कुमार।

सुप्त वज्रासन क्या है ?
सुप्त का मतलब सोया हुआ। इसमें आप वज्रासन में बैठते हुए पीछे की ओर लेट कर इस योगाभ्यास को करते हैं जिसके कारण इसको सुप्त वज्रासन कहा गया है। अगर इस आसन को सही तरीके से किया जाए तो इसके बहुत सारे फायदे हैं। यह कमर दर्द, कब्ज, सांस रोग, रक्त संचार, पेट की चर्बी, मासिक धर्म, पतली कमर इत्यादि के लिए बहुत लाभदायक योगाभ्यास है।
सुप्त वज्रासन करने की विधि-
सबसे पहले आप वज्रासन में बैठ जाएं।
कोहनियों (Elbows) का सहारा लेते हुए धीरे-धीरे पीछे की ओर झुकें और कोहनियों को जमीन पर टिका दें।
हाथों को धीरे-धीरे सीधे फैलाएं और सिर के पीछे की ओर ले जाएं
अब कंधों को जमीन पर टिकाते हुए एवं घुटनों को एक साथ रखते हुए पीठ के बल लेट जाएं।
हाथों को कैंची की आकृति बनाते हुए कंधों के नीचे लेकर आएं।
धीरे धीरे सांस लें फिर धीरे धीरे सांस छोड़े।
अपने हिसाब से इस अवस्था को बनाएं रखें।
फिर धीरे धीरे अपने आरंभिक अवस्था आ जाएं।
यह एक चक्र हुआ।
इस तरह से आप 3 से 5 चक्र कर सकते हैं।
 सुप्त वज्रासन के लाभ
वैसे इस आसन के बहुत सारे लाभ है लेकिन यहां पर इसके कुछ महत्वपूर्ण लाभ के बारे में बताया गया है।
सुप्त वज्रासन योग कब्ज के लिए: इस आसन के अभ्यास से आप कब्ज पर कण्ट्रोल पा सकते हैं।
सुप्त वज्रासन योग पेट के पेशियों के लिए: अगर आप अपने ढीला ढाला पेट की मांसपेशियों से निजात पाना चाहते हैं तो इस आसन का अभ्यास करना चाहिए। यही नहीं यह आपको पेट से सम्बंधित बहुत सारी बिमारियों से दूर रखता है।
सुप्त वज्रासन योग रक्त संचार में: यह आसन रक्त संचार को बेहतर बनाता है और इस तरह से आपको बहुत सारी परेशानियों से बचाता है।
सुप्त वज्रासन योग पीठ दर्द में: इसका नियमित अभ्यास से आप अपने पीठ की दर्द को कम कर सकते हैं।
सुप्त वज्रासन योग घुटने के लिए: यह आपके घुटने को मजबूत बनाता है।
सुप्त वज्रासन योग जांघों के लिए: यह आपके जांघों के मांसपेशियों के लिए बेहद मुफीद योगाभ्यास है।
सुप्त वज्रासन योग पेट की चर्बी के लिए: इस आसन का नियमित अभ्यास से आप पेट की चर्बी को कम कर सकते हैं।
सुप्त वज्रासन योग रीढ़ की हड्डी के लिए: यह मेरुदंड को स्वस्थ करते हुए चुस्त दुरुस्त भी रखता है।
अस्थमा के लिए योग: इसके अभ्यास से आप अपने अस्थमा को बहुत हद तक कण्ट्रोल कर सकते हैं।
रिपोर्ट-प्रेम चंद्र न्यूज़24 इंडिया प्रयागराज यू0पी0

No comments