Header Ads

.

*बहराइच जिले में आधुनिकता की दौड़ में थारू जनजाति की कला और सांस्कृतिक विरासत विलुप्त होने की कगार पर है

*बहराइच जिले में आधुनिकता की दौड़ में थारू जनजाति की कला और सांस्कृतिक विरासत विलुप्त होने की कगार पर है अपनी कला संस्कृति और विशेष पहनावे के लिए जानी जाने वाली थारू जनजाति प्रगति के पथ पर अपनी पहचान खोती जा रही है इस दिशा में सरकारी स्तर पर भी कोई प्रयास नहीं किए जा रहे हैं. थारू समाज में महिलाओं को विशिष्ट दर्जा प्राप्त है थारू समाज महिला प्रधान समाज है जहां महिलाएं धार्मिक अनुष्ठानों के साथ-साथ अन्य घरेलू कामकाज और परिवार को संभालती हैं. पितृ वंशीय समाज होने के बावजूद भी महिलाओं का संपत्ति पर अधिकार अन्य समाजों से अधिक है।*

No comments