Header Ads

.

*अयोध्या में कोराना पॉजिटिव, प्रशासनिक लापरवाही का नतीज़ा।*

*रिपोर्ट - संदीप गुप्ता मीडिया प्रभारी सदर अयोध्या* ।

*अयोध्या में कोराना पॉजिटिव, प्रशासनिक लापरवाही का नतीज़ा।* 

 *प्रशासन की असक्रियता,और लोगो द्वारा प्रशासन का सहयोग ना करने का परिणाम*

 *गोसाईगंज अयोध्या* 
जनपद अयोध्या भी अब कोरोना जैसी महामारी से अछूता नहीं रहा,गोसाईगंज थाना अंतर्गत गांव मैनपुर मनापारा मुंबई से आया करोना पॉजिटिव मजदूर ट्रेन में 54 यात्रियों के साथ सफर करता रहा जिनकी मौत होने के बाद भी करीब 11 घंटे तक बीच में कहीं ट्रेन रोककर मृतक को उतारा नहीं गया जब ट्रेन लखनऊ पहुंची तो यहां के जीआरपी के दो सिपाहियों ने उसके शव को उतारा उसके बाद डीएम व सीएमओ के निर्देश पर मजदूर का केजीएमयू अस्पताल में पोस्टमार्टम कराया गया प्रशासनिक लापरवाही की हद देखिए कि उसकी कोरोनावायरस रिपोर्ट आए बिना ही  उसे गृह जनपद अयोध्या भिजवा दिया गया जहां उसका अंतिम संस्कार भी कोरोनावायरस के मुताबिक नहीं हुआ बाद में श्रमिक की रिपोर्ट करोना पॉजिटिव निकली तो रेलवे से लेकर स्वास्थ्य विभाग तक में हड़कंप मच गया।अयोध्या जिले के थाना गोसाईगंज का रहने वाला 42 वर्षीय मजदूर मुंबई में रहकर अपने साले के साथ गेटवे ऑफ इंडिया पर फोटोग्राफी कर परिवार पालता था लॉक डाउन में काम बंद हो गया वह परिवार सहित मुंबई से बस्ती जाने वाली ट्रेन पर सोमवार दोपहर 1:30 बजे सवार हो गया इटारसी  के आसपास उसकी मौत हो गई थी परिवार को झांसी के पास पता चला लेकिन शव को रास्ते में कहीं नहीं उतारा गया ट्रेन जब मंगलवार को दोपहर 2:35 पर लखनऊ पहुंची तो जीआरपी ने उसके शव को उतार कर पोस्टमार्टम को भेजा तब प्रशासन को होश आया, और गंभीरता से उन श्रमिकों का ब्योरा जुटा रहा है जो उसी बोगी में सफर कर रहे थे बताया जा रहा है कि मृतक के साले कि मुंबई में मौत हो गई थी जिसके बाद वह अपनी यात्रा रद्द करना चाह रहा था लेकिन वहां उसे बस में बैठाकर रेलवे स्टेशन छोड़ दिया और ये लोग घर के लिए चल दिए।
यह घटना तो एक नमूना है अभी कितने और पॉजिटिव मिलेंगे इसकी संभावना आंकी नहीं जा सकती हैं इस तरह के मरीज़ अगर मिलते हैं तो इसमें सबसे बड़ी लापरवाही प्रशासन की है इस समय पूरे जनपद में प्रवासी, आ रहे हैं कुछ साइकिल से तो कुछ चोरी से,पैदल हर गांव में सूचना मिलने के बाद भी प्रशासन होम क्वारांटाइन की सलाह देता हैं,यहां बता दू जब ट्रेन से आने वाले जिनको सरकार चेकअप कराके भेज रही हैं वे सुरक्षित नहीं हैं तो और लोग कैसे सुरक्षित रहेंगे। प्रशासन का सहयोग न करने वालो पर भी कार्यवाही होनी चाहिए।
फिलहाल जिला प्रशासन ने यदि इस घटना से सबक नहीं लिया तो गंभीर परिणाम आना निश्चित है और आमजन को इसे भुगतने के लिए तैयार रहना पड़ेगा।

No comments