Header Ads

.

कानून के रखवालो द्वारा ही रौंदा जा रहा है सोशल डिस्टेंस की धज्जियां

*कानून के रखवालो द्वारा ही रौंदा जा रहा है सोशल डिस्टेंस की धज्जियां*

अम्बेडकर नगर । इस कोरोना वैश्विक महामारी से निपटने के लिए ईज़ाद किये बचाव एवं सावधानी के लिए माउथ कवर व सोशल डिस्टेंस को प्रथमिकता के तौर पर सभी नागरिको से अनुपालन की अपील शासन एवं प्रशासन द्वारा किया गया है । 
इसके अनुपालन कराने का जिम्मा खाकी के कंधे पर डालकर शासन एवं प्रशासन मुतमईन हो चला है । 
ऐसी परिस्थित में यदि खाकी के द्वारा ही इस अपील की का मखौल उड़ाया जाय तो आम नागरिकों से क्या आपेक्षा किया जाय ? वह भी तब जब समूचा मानव समाज कोरोना जैसी संक्रमित महामारी उसके मन मस्तिष्क में घर कर चुकी हो ।संवेदनशील इतनी कि लोग इसके नाम से ही दहशतगर्द हो चलें हो ।
यह वाकया आज सायं जनपद मुख्यालय पटेल नगर पर देखने को मिली । जो अकबरपुर कोतवाली से मात्र तीन सौ मीटर की दूरी पर । जहाँ से जनपद के हर आला अफसर , जनप्रतिनिधि व आम नागरिक दिनभर इसी मार्ग से गुजरते रहतें हैंं । अशोक गण हाउस के ठीक सामने एक ही तिपहिया सवारी गाड़ी पर छः खाकी धारी बेख़ौफ़ यात्रा करते हुए पाये गये । 
दूसरे को डण्डे के बल पर कानून का अनुपालन कराने वाले इन पुलिस वालो को कानून का सबक़ कौन सिखायेगा ? यह यक्ष प्रश्न बन गया है । खुद सोशल डिस्टेंस की धज्जी उड़ाने वाले इन रंगरूटों ने अपने इस कारनामे से समाज , प्रशासन व कानून को क्या संदेश देना चाह रहें हैंं ? जो इनके सोशल डिस्टेंस के अनुपालन कराने की नीयत की पोल खोल रही है ।

No comments