Header Ads

.

जनपद अम्बेडकरनगर कोरोना महामारी में भी कोटेदार दिखा रहा शासन प्रशासन के निर्देशों को ठेंगा

जनपद अम्बेडकरनगर कोरोना महामारी में भी कोटेदार दिखा रहा शासन प्रशासन के निर्देशों को ठेंगा

  अंबेडकरनगर। वैश्विक महामारी कोरोना में जहां आम आदमी  के सहयोग के लिये सरकार कठोर से कठोर नियम निर्देश  लागू कर रही है। वहीं  अकबरपुर तहसील क्षेत्र के कोटेदारों में प्रशासन के डंडे का इस महा संकट में भी कोई डर नहीं देखा जा रहा है। जी हां दोनों कोटेदारों के  द्वारा अंत्योदय,पात्र गृहस्थी कार्ड धारकों को मानक से प्रति यूनिट 2 किलो कम चावल गेंहू दिया जारहा है और तो और   घटतौली कर खाद्यान्न का अधिक मूल्य लेना इनकी आदत बन गई है। प्रशासन के सपनो को चूर चूर करने वाले इन कोटेदारों का जब प्रतिरोध किया जाता है तो इनके द्वारा यह कहा जाता कि हम ऊपर तक महीना पहुंचाते है। हमारा कुछ नही बिगड़ेगा। सूत्रों की माने तो प्रत्येक कोटेदार सप्लाई स्पेक्टर को पैंतीस सौ रुपए महीने के हिसाब से देता है इसीलिए  कोटेदार  द्वारा  गर्व से कहा जाता है कि विरोध करोगे तो फर्जी मुकदमे में फसा देंगे।  इसको लेकर ग्रामीणों ने सामाजिक अंतर का ख्याल करते हुए कोटेदारों का विरोध भी किया ।ग्रामीणों ने बताया है कि विरोध के बाद इनमें से एक दुकानदार ने कहा कि वह पहले कम खाद्यान्न देता था परंतु अब ठीक से वितरित करेगा। जबकि  कुछ कोटेदार ने कहा है कि यदि किसी को हमारे यहां से कम अनाज मिला है तो वे आवे उनका कमी पूरा कर दिया जाएगा। इस प्रकार से कोटेदारों ने यह बात स्वयं स्वीकार किया कि उनके द्वारा कम खाद्यान्न दिया गया है। जब कि कार्ड धारकों ने भी कोटेदारों के भय व दबंगई पूर्ण वातावरण को दर किनार करते हुए उमके सामने ही उनके काले करतूतों की कहानी कही। जिस पर एक कोटेदार ने तो बवाल खड़ा करने का प्रयास किया किन्तु लोगों के मुख़ालफ़त के आगे वे ठंडा हो गये। ग्रामीणों ने आरोप लगाते हुये बताया है कि  कि कोरोना के संकट काल मे भी पहले की ही तरह उक्त  कोटेदार  अपने भ्रष्टाचार पूर्ण कारगुजारियों से बाज नही आ रहे हैं।  ग्रामीणों ने बताया कि कोटेदार जो घटतौली व मानक से कम अनाज देने,अधिक मूल्य लेने के लिए चर्चित है। कार्ड धारकों के यूनिट को हमेशा घटा बढ़ा कर राशन को गड़प करते रहते है। पीड़ित ग्रामीणों ने बताया कि इसमें विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत से हम लोगों का शोषण किया जाता है।

No comments